आज हमारी 85% से अधिक renewable energy की रिसोर्स नदियां है। हमारी अधिकांश हाइडल पावर प्लांट्स पहाड़ी क्षेत्रों में स्थित है क्योंकि हाइडल प्लांट्स की टरबाइन को घुमाने के लिए का होना आवश्यक है। जिससे पानी में टरबाइन को घुमाने के लिए पर्याप्त ऊर्जा आता है। लेकिन Hydel plants के लिए बनाए गए ढमस के कारण बहुत सारी जलीय जीव जंतु को हानि पहुंचती है और यह नेचर को भी हानि पहुंचाता है जिससे भूखलन जैसी समस्याएं पैदा होती है। बेल्जियम के कुछ साइंटिस्ट ने इस समस्या का समाधान निकाल लिया है उन्होंने ऐसे टरबाइन का खोज किया है जो कि बिना जलीय जीव जंतु को हानि पहुंचाए इलेक्ट्रिसिटी पैदा करेगा और यह आसानी से कहीं पर भी लगाया जा सकता है इसका नाम है बिल्कुल टरबाइन।

Whirlpool turbine क्या है?

अगर हम सरल शब्दों में बात करें तो यह एक लो प्रेशर टरबाइन है जिसके अंदर एक समरसेबल जनरेटर को फिट किया गया है जिसकी क्षमता 60 घरों को लगातार 24/7 इलेक्ट्रिसिटी पहुंचाने की है।

इसका आविष्कार बेल्जियम की एक टर्बूलेंट नामक company ने किया है। जिसका मेन उद्देश्य है ग्रीन हाइड्रो पावर प्लांट बनाना और ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति को पूरा करना खासकर जोकि पहाड़ी क्षेत्रों में स्थित है। trial के तौर पर उन्होंने 15 किलो वाट का एक विमान स्टेट इन प्लांट Chil में लगाया है।

whirlpool turbine कैसे काम करता है?

जैसा कि हम जानते हैं भंवर उर्जा का एक सबसे खतरनाक रूप है। यह इतना खतरनाक है कि यह विशाल जहाजों को भी अपने अंदर डूबे सकता है। लेकिन यहां enginee इस विनाशकारी ऊर्जा का उपयोग एक रचनात्मक तरीके से बिजली पैदा करने के लिए किया है।

आइये देखते हैं कैसे

जैसा कि आप देख सकते हैं चित्र में दर्शाया गया है, Whirlpool turbine की चैनल के निर्माण हेतु वॉटर रिसोर्स के बगल के जमीन की खुदाई कर एक कंक्रीट द्वारा नाला तैयार किया जाता है।

जिस जगह पर इसे लगाया जाता है वहां यह ख्याल रखना पड़ता है कि उस स्थान पर जल के स्तर में कम से कम 1.5 मीटर की ऊंचाई का अंतर होना आवश्यक है जिससे कि टरबाइन को घुमाने के लिए पानी के अंदर पर्याप्त वेग हो।

 

इसके बाद टरबाइन का मेन पार्ट तैयार किए गए बेसिन के लोअर पार्ट में फिक्स कर दिया जाता है जिसके अंदर एक समर्सिबल जरनेटर भी होता है जो कि इलेक्ट्रिसिटी पैदा करता है।

इस चैनल में एक गेट भी लगाया जाता है जो की जरूरत के अनुसार पानी के वेग को कम या ज्यादा करने के लिए यूज किया जाता है। जैसे ही इस चैनल में पानी का प्रवाह शुरू होता है इसके कंस्ट्रक्शन के मुताबिक पानी का प्रवाह एक भंवर में तब्दील हो जाता है जिससे कि वो टरबाइन को आसानी से घूम आता है जिससे इलेक्ट्रिसिटी जनरेट होती है। जैसा कि यह एक लो pressure turbine है तो इससे जलीय जीव जंतु को किसी प्रकार की हानि भी नहीं पहुंचती। इसके ब्लैड्स का निर्माण किस तरह से किया गया है तकिया बिना किसी मेंटेनेंस के लंबे समय तक चल सके और इस पर पानी में होने वाले कंकड़ पत्थर के कारण डेंट भी ना पड़े।  इसका installation बिना किसी तामझाम के आसानी से किया जा सकता है बस एक छोटे से पावर स्टेशन की आवश्यकता होती है जो कि बिजली डिस्ट्रीब्यूशन का काम कर सके।

whirlpool turbine के लाभ

  1. यह एक छोटे और संगत इतना है कि किसी भी पानी के स्रोत के पास स्थापित किया जा सकता है अगर यह आवश्यक जल स्तर अंतर प्रदान करता है ।
  2.  यह जलीय जीवन को नुकसान नहीं है क्योंकि यह एक कम दबाव टरबाइन है और इसलिए मछलियों कोई खतरा नहीं है ।
  3. यह भी स्थापित करने के लिए सस्ता है, के रूप में पारंपरिक पनबिजली संयंत्र यह या तो बड़े बांधों या सुरंगों, जो बहुत अधिक लागत का निर्माण करने की आवश्यकता है ।
  4. यह भी बिजली परिवहन, जो एक बड़ा बिजली स्टेशन और बिजली के खंभे, तारों और इतने सारे श्रमिकों की स्थापना लागत शामिल है पर उच्च व्यय से बचाता है ।
  5. यह कम रखरखाव और उच्च स्थायित्व भी कोई इंजीनियरिंग इसकी स्थापना के बाद की आवश्यकता है ।

भँवर टरबाइन की सीमाएं

  1. यह काम कर बंद हो जाता है तभी पानी जमा देता है (लेकिन यह एक बड़ी सीमा नहीं है क्योंकि पानी चल कभी नहीं रुक) ।
  2. इसकी बिजली पैदा करने की क्षमता बहुत कम है जो वॉट में ही है.

चिली में, वे पहले से ही एक 15 किलोवाट के प्रदर्शन संयंत्र स्थापित किया था । इंजीनियर्स अब अपने मेगावाट में बिजली पैदा करने की क्षमता बढ़ाने के लिए काम कर हे है आप कंपनी के आधिकारिक वेबसाइट पर यात्रा कर सकते है यहां अधिक जानकारी के लिए www.turbulrnt.be दिया लिंक अगर आप किसी भी खरीद करना चाहते हैं, वे भंवर टरबाइन के विभिंन मॉडलों है आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इनमें से कोई भी आदेश दे सकता है. कृपया हमें अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया देने के लिए मत भूलना टिप्पणी बॉक्स में अपने विचार टिप्पणी ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here